Tuesday, 11 September 2012

वरूणा को बचाने के लिये राज्य मंत्री सुरेन्द्र सिंह पटेल ने दिया आश्वासन




जिलाधिकारी  से बात कर वरूणा को बचाने का आश्वासन देते राज्य मंत्री–  सुरेन्द्र सिंह पटेल

वरूणा को बचाने के लिये साधु-संतो, ग्राम प्रधानों तथा क्षेत्रीय नागरिकों के सहयोग से चलाये जा रहे अभियान के तहत सोमवार को पांचोशिवाला में आयोजित कार्यक्रम में लोक निर्माण एवं सिंचाई राज्य मंत्री सुरेन्द्र सिंह पटेल ने आकर अभियान के लोगों के चार सुत्रीय मांगों को सुनने के बाद आश्वासन दिये कि वरूणा देव नदी है इसे बचाने का पुरा प्रयास किया जायेगा व अभियान के मांगों को स्वीकारते हुए एक माह में उक्त मांगों पर कार्य कराने का आश्वासन दिये।
ज्ञात हो कि चार माह से वरूणा बचाओ अभियान के तहत सेवापुरी विकास खण्ड, आराजी लाईन विकास खण्ड, हरहुआ विकास खण्ड के गॉवों तथा वरूणा तटीय मंदिरों पर साधु संतो व क्षेत्रीय जनप्रतिनिधियों के सहयोग से आन्दोलन चलाया जा रहा था लोगों को मांग था कि वरूणा नदी मंे नाले व सीवर का पानी बहाया जाता है जिससे वरूणा का जल अब दूषित होता जा रहा है तथा वरूणा के जल में नाले का पानी मिल जाने से जल भी दूर्गन्धयुक्त हो गया है। जिस कारण आज वरूणा मे  से जलीय जन्तु विलुप्त होते जा रहे हैं शहर में नाले व सीवरों से निकलने वाले दूषित पानी को वरूणा में गिराने से रोका जाय जिससे वरूणा के जल निर्मलता व पवित्रता बनी रहे। तथा गर्मी के दिनों में जब पानी किल्लत चहुओर होती है उस समय यह देव नदी भी सूख जाती है जिससे मवेशियों व किसानों को जल के लिये समस्याओं का सामना करना पड़ता है यदि नदी  में शारदा सहाय व ज्ञानपुर नहर प्रखण्ड से पानी छोड़ा जाय तो ऐसी स्थिति उत्पन्न नहीं होगी तथा वरूणा मंे हमेशा पानी रहेगा तथा वरूणा में पुराने पुल पर सिंचाई विभाग द्वारा फाटक बनाये जाने से गंगा तथा वरूणा अलग हो जाती है जिसे तत्काल प्रभाव से खोलवाया जाय। जिससे वरूणा तथा गंगा दोनों नदियों का संगम बना रहे व वरूणा की अविरलता भी बनी रहे। आन्दोलन का अखिरी मांग था कि वरूणा के तटों पर भूमाफियाओं द्वारा अवैध कब्जा करके बड़े-बड़े मकान बनवा लिये गये हैं जिससे वरूणा सकरी होती जा रही है, विकास प्राधिकरण द्वारा सर्वे कराकर अवैध निर्माण ध्वस्त कराये जाय जिससे वरूणा धार चलती रहे।
 
अभियान की बातों को ध्यान में रखते हुए लोक निर्माण एवं सिंचाई मंत्री सुरेन्द्र सिंह पटेल ने कहा कि जिलाधिकारी से बात कर एक कमेटी गठित की जायेगी जो वरूणा को बचाने के लिये काम करेगी। उन्होने यह भी कहा कि वरूणा में सीवर व नाले के पानी को रोकने के लिये नगर निगम के लोगोें से बात कर गन्दे पानी को ट्रीट मेण्ट प्लान्ट में डाला जायेगा तथा वरूणा नदी के दोनों किनारों पर अवैध रूप से कब्जा करने वालों पर आवश्यक कार्यवाही की जायेगी व नदी का जल सूखे न इसके लिये शारदा सहाय व ज्ञानपुर नहर प्रखण्ड से सर्वे कराकर लिंग नहर लाकर नदी में जोड़ा जायेगा जिससे वरूणा के जल पवित्रता व निर्मलता हमेशा बनी रहे। तथा अभियानम की मांगों को मुख्यमंत्री तक ले जायेंगे।
इस आश्वासन के बाद वरूणा बचाओ अभियानम के सदस्यों ने वरूणा बचाओ अभियानम को स्थिगित करने का निर्णय लिया। सराहना राज्य मंत्री ने भी किया।
 कार्यक्रम में मधुबन यादव, सुबास यादव, रतन यादव, हिटलर सिंह, घनश्याम सिंह, घनश्याम पाठक, हंसराज यादव, बांके लाल कन्नौजिया, शोभनाथ यादव, बरखु यादव, श्रवण पाण्डेय, जितेन्द्र विश्वकर्मा, इमरान बीडीसी, जयचन्द मोदनवाल आदि लोग शामिल रहे।

प्रवीन यादव ‘यश‘

Post a Comment