Wednesday, 11 December 2013

आप ने कर दिया सूपड़ा साफ़

दिल्ली में आम आदमी पार्टी ने इस प्रकार अपनी गति का बढ़ाया कि अन्य दलों को यह मानने पर मजबूर होना पड़ा की आने वाले समय कि राजनीति आसान नहीं होगी लोगों को बहकाना और भटकाना अब आसान नहीं होगा। जिस प्रकार से दिल्ली में चुनाव हुए और चुनाव के नतीजे आने के बाद बहुत से सियासी दलों ने दांतों तले अंगुलियाॅ दबाते हुए यह मानने के लिये तैयार हो गये कि अब जनता जाग गयी है और उसकी रोटी पर बातों का मक्खन लगाने से काम नहीं चलने वाला है इसी कारण लोगों ने लोकसभा चुनाव से पहले ही तैयारियों में तेजी ला दिया है और सभी पार्टीयाॅ कहीं न कहीं आप को देखकर ही चल रही हैं और उसी रास्ते पर चलने से ही अपनी जीत समझती हैं।
कुछ सवाल आज हमारे और आप के जेहन में हैं जिनका जवाब खोजने का मैने काफी प्रयास किया और कर रहा हूॅ, कि यदि अन्ना हजारे आज भी आप के साथ रहते तो शायद आज दिल्ली में आप की सरकार होती। आप ने इस तरह से झाडू चलाया कि सभी पर्टीयों द्वारा किये गये वादों के मक्खन साफ हो गये। मेरा मानना है कि यदि आप भाजपा के साथ मिलकर सरकार न बनाकर फिर से चुनाव कराने पर ही अड़ जाती है तो अगली बार होने वाले चुनाव का परिणाम अत्यधिक चैकाने वाला होगा और झाडू सबको साफ कर देगा।
Post a Comment