Saturday, 2 May 2015

भूत प्रेत के चक्कर में दिन रात रटवाया 'हूजूर मैं हीरालाल'

दरवाजे पर लगा टीका,               यही हैं हीरालाल,                     घर पर  एकत्र पड़ोसी।
वाराणसी। 21 सदी में जहॉ मानव देश विदेश के बारे में तत्काल जानकारियॉ प्राप्त कर रहा है तथा तमाम प्रकार की कूरितियों पर लगाम लगा रहा है वहीं कुछ लोगों और जगहों पर अंधविश्वास आज भी हावी नजर आता है ऐसा ही हाल देखने को मिला वाराणसी के फूलपुर थानान्तर्गत थाने गॉव में। गॉव का 55 वर्षीय हीरालाल मौर्या के मन में भूत प्रेत की बातें इस प्रकार घर बनाया ली कि वह अपने परिवार के लोगों को भी नहीं बक्सा और दो दिन तक अपने नाम अर्थात 'हूजूर मैं हीरालाल' का जाप करवाया और लोगों को खाने पीने
तक नहीं दिया फिलहाल बाद में इसकि सूचना ग्राम प्रधान को हुई वे पुलिस को सूचित किये और उसे अस्पताल में भर्ती करवाया गया। परिवार वाले अभी भी डरे और सहमें हैं।

डर के मारे भूखे प्यासे लोग रटते रहे 'हूजूर मैं हीरालाल'।

पत्नी रजपत्ति देवी ने बताया कि दो बेटों में छोटा बेटा विवेक कानपुर में अपने परिवार के साथ रहता है और बिस्किट फैक्ट्री में काम करता है तथा बड़ा बेटा विनय मौर्या घरपर ही रहकर त्रिलोचन स्थित एक बिस्किट फैक्ट्री में काम करता है। उन्होने पति के बारे में बताया कि उनकी हालत चार दिन पहले खराब हो गयी और जिसके चलते वे बड़े बेटे विनय व उसकि पत्नी तथा ​तीन बच्चों को गुरूवार की रात में कमरे में बन्द कर दिया और उनसे एक ही रट लगवाने लगा 'हूजूर मैं हीरालाल' ऐसा न बोलने या विरोध करने पर हीरालाल परिजनों को मारने पीटने लगते। 

परिजनों ने 25 वर्ष की बेटी पर भी भूत प्रेत का साया बताया।
उनके घर में उनकी बेटी सुषमा का भी वही हाल है उसकि मॉ ने बताया कि कुछ माह पहले वह गॉव में घूम रही थी उसी दौरान से उसके उपर ब्रम्ह देवी की सवारी हो गयी है जिसके चलते वह हमेशा परेशान रहती है और परिजन भी परेशान रहते हैं उन्होंने यह भी बताया कि बेटी का कई जगह इलाज करवाया लेकिन ठीक न हो पाने के कारण उसका झाड़ फूॅक करवाया जा रहा है जिसके चलते उसके हालत में कुछ सुधार आयी है। 

हीरालाल अपने पोते को ही पीटकर कर दिया अधमरा। 

पड़ोसियों ने बताया कि घर में बंद कर अपने नाम का जाप करवाने के दौरान जाप करने का विरोध करने पर हीरालाल ने अपने पोते आनंद को मारपीट कर घायल कर दिया जिससे उसकि हालत नाजुक बनी हुयी है फिलहाल बड़ी बहू अपने बेटे को लेकर अपने मायके मड़ियाहूॅ जौनपुर चली गयी है जहॉ उसका इलाज चल रहा है।

डाक्टर ने बताया यह मानसिक रोग से ग्रस्त  है 

इधर जब हीरालाल को पिण्डरा प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र पर लाया गया तो वहॉ के प्रभारी चिकित्सक हरिशंकर मौर्या ने उसे मानसिक रोग से ग्रस्त बताया और उसको दवा देने के साथ ही तत्काल पं0 दीन दयाल राजकीय अस्पताल के लिये रेफर कर दिये।
Post a Comment