Tuesday, 26 May 2015

तो जनाब,सोशल मीडिया आपकी फसल चौपट कर देगी।

वाराणसी। आधुनिक समय में​ जितनी तेजी से सोशल मीडिया युवाओं को लुभा रही है उतना अधिक शायद ही कोई अन्य चीज लूभा रहा हो। मीडिया में सरकार के अधीन हो कर किये जा रहे विज्ञापनों और उनके समर्थन में चल रही झूठी खबरों का जवाब देने के लिये सोशल मीडिया ही सबसे नायाब तरीका है आप की मठाधीशी खतम हो जायेगी। अभी जिस प्रकार से यह उपजाऊ खेत में पैसे उग रहे हैं उसी तरह से आने वाले समय में सोशल मीडिया की मार पड़ते ही यह उपजाऊ भूमि बंजर होने वाली है। 

इसकी भनक बहुत से लोगों को पहले ही लग चूकी है और वे सोशल मीडिया पर अपने पॉव मजबूती से जमाने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ रहे हैं लेकिन कोई फायदा नहीं होने वाला क्योंकि जब आप सोशल मीडिया से जूड जायेंगे और झूठी खबरें चलायेंग तो उसका तत्कालिक जवाब भी आपके साईट पर मि​ल जायेगा इसलिये अभी भी मौका है क्यों नहीं सावधान हो जाते हैं यदि अभी नहीं सावधान हुए तो अन्त समय में विश्राम करने के अलावा कोई अन्य काम नहीं रह जायेगा आपके पास। आज समय ऐसा हो गया है कि विदेश में कोई चाटा खाता है तो उसकी गूंज सोशल मीडिया पर जरूर सुनाई देती है और कई दिनों तक गुंजती रहती है। 

गिने चुने संस्थानों ने अपने कर्मचारियों को खुब शोषण किया है इसी कारण एक तरफ मजीठिया उनके कमर तोड़ रही है तो दूसरी तरफ सोशल मीडिया उनको आईना दिखा रही है ऐसे में आने वाला कल उनके लिये बहुत ही कष्टकारी होगा अभी से यह चर्चा होने लगी है कि उनकी उपजाऊ जमीं को बंजर बनते देर नहीं लगने वाली है।

तो, नेता जी आपको भी सुधरना होगा।
इसका असर केवल ​मीडिया जबत पर ही नहीं बड़बोले नेताओं पर भी रहेगा और आने वाले समय में उनको अपने जुबान पर लगाम लगाने की बहुत ही आवश्यकता हो जायेगी क्योंकि वहॉ आपकी जूबान फिसलेगी तो यहॉ आपकी लंगोट तक खींच देंगे सोशल मीडिया के सिपाही। जिस प्रकार से अनाप सनाप बकते वाले लोग नेता बनकर पढ़े लिखे लोगों के उपर अपना राज चलाते हैं और जूते की डोरी तक बंधवाने में कोई शर्म महसूस नहीं करते उन लोगों नाड़ा खोलने की तागत सोशल ​मीडिया के पास है और वे अपनी इस कर​तूत से खुद ब खुद शर्मिंदा हो जायेगे। राजनीति में भी काफी सुधार आयेगा यह ताकत अब सबके सामने है क्योंकि गोंडा के मंत्री जी चिल्लाते और गरियाते हैं तो सोशल ​मीडिया के माध्यम से गुजरता तक उसकी गूंज सुनायी देती है। 

लेखक 
प्रवीन यादव "यश"
Post a Comment