Friday, 19 August 2016

तो क्या यह महज संयोग है या माँ गंगा अब खुद भगा रही हैं?

नमामि गंगे के कार्यक्रम को माँ गंगा द्वारा लगा करारा झटका, बदलना पड़ा कार्यक्रम का स्थान

वाराणसी। उत्तरप्रदेश की वाराणसी लोकसभा सीट से नामांकन भरने के पहले पीएम नरेन्द्र मोदी ने कहा था कि पहले मुझे लगा था मैं यहां आया, या फिर मुझे पार्टी ने यहां भेजा है, लेकिन अब मुझे लगता है कि मैं मां गंगा की गोद में लौटा हूं।

उन्होंने यह भी कहा था कि न तो मैं आया हूं और न ही मुझे भेजा गया है। दरअसल, मुझे तो मां गंगा ने यहां बुलाया है। यहां आकर मैं वैसी ही अनुभूति कर रहा हूं, जैसे एक बालक अपनी मां की गोद में करता है। उन्होंने कहा कि मैं जिस गांव बड़नगर में जन्मा हूं, वह भी शिव का बड़ा तीर्थस्थल है.... यही वो बातें हैं जो पीएम  नरेंद्र मोदी ने लोकसभा चुनाव के दौरान वाराणसी में कहा था।

तो अब यह क्या हुआ नमामि गंगे के कार्यक्रम में ही माँ ने विघ्न डाल दिया है अब तो काशी की जनता चुटकुले भरे लहजे में कह जिस माँ ने बुलाया था वह अब भगा रही हैं क्या?

आइये बताते हैं क्या है पूरा मामला

कल जनपद में नमामि गंगे का कार्यक्रम अस्सी घाट पर आयोजित होना था जिसमें बीजेपी के तीन केंद्रीय मंत्री हिस्सा लेने वाले हैं लेकिन अब यहां पर आयोजित नमामि गंगे कार्यक्रम केवल इसलिए नहीं हो पायेगा क्योंकि माँ गंगा रौद्र रूप धारण कर चुकी हैं ऐसे में कल आयोजित कार्यक्रम में तात्कालिक रूप से फेरबदल किया गया है और अब यह कार्यक्रम अस्सी घाट पर न होकर नागरी नाटक मंडली में संपन्न होगा जिसके बारे में देर शाम बीजेपी के काशी क्षेत्र के प्रवक्ता द्वारा व्हाट्सअप पर प्रसारित मैसेज में बताया गया है।

यह है पूरा कार्यक्रम

भाजपा काशी क्षेत्र के प्रवक्ता द्वारा जारी मैसेज के अनुसार इस कार्यक्रम में गंगा के निर्मलीकरण को लेकर योजनाओं से संबंधित कार्यक्रम आयोजित किया गया है राष्ट्रीय स्वच्छ गंगा मिशन के तहत नमामि गंगे के कार्यक्रम को अस्सी घाट पर बाढ़ के कारण से अब नागरी नाटक मंडली कबीर चौरा में शनिवार को दो बजे आयोजित किया जा रहा है जिसकी अध्यक्षता केंद्रीय जल संसाधन मंत्री उमा भारती करेंगी इस कार्यक्रम में केंद्रीय पर्यटन मंत्री महेश शर्मा, केंद्रीय ऊर्जा मंत्री पीयूष गोयल एवं प्रदेश सरकार के मंत्री राम गोविन्द चौधरी उपस्थित रहेंगे।

सुरेन्द्र यादव की कलम से

Post a Comment